सावन शिवरात्री 2019 : जाने शुभ मुहूर्त, पूजा विधि एवं इसका खास महत्व

चंद्र ग्रहण 2019 : जानिए इसकी खासियत एवं वजह
July 15, 2019
Don’t Let Your Marriage Suffer: Make Married Life Happier with Astrological Remedies
July 29, 2019
sawan shivratri 2019

सावन का शुभ महीना शुरू हो गया है | हर सोमवार सभी भक्तगण पूरी श्रद्धा से व्रत करते है | सोमवार को भगवान शिव की आराधना का बहुत महत्व होता है, इसलिए सावन के सोमवार में सभी लोग भगवान शिव की सच्चे मन से भक्ति करते है | सावन में आने वाला सबसे महत्वपूर्ण दिन – शिवरात्री, पर भोले भंडारी की पूजा अर्चना बहुत बड़े पैमानें पर की जाती है | सावन में आने वाले चार सोमवार और शिवरात्री का दिन अत्यंत फलदायी होता है |

इन दिनों पर होने वाली पूजा की विधि, शिव को चढ़ने वाला भोग अथवा शुभ मुहूर्त जानिए :

सावन शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 

श्रावण मास में आने वाली शिवरात्री, सावन शिवरात्री के नाम से प्रसिद्ध है|  सावन शिवरात्री 2019 में 30 जुलाई को पड़ रही है | माना जाता है की इस शिवरात्रि के मौके पर शिव शंभु को जल चढ़ाने से वे जल्दी प्रसन्न हो जाते है  और भक्तो की मनोकामना पूरी करते है | सावन शिवरात्री 2019 में पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 9:10 से शुरू होकर दोपहर 2:00 बजे तक होगा | 

सोमवार का ख़ास महत्व 

असल में सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने की परंपरा बहुत पहले से चली आ रही है | वही सावन में आने वाले सोमवार की पूजा ख़ास महत्व होता है और इस दिन लोग व्रत भी करते है | माना जाता है की इस दिन शिव शम्भू की भक्ति करने से सभी कष्ट दूर हो जाते है | शिवपुराण के मुताबिक अगर कोई भगवान शिव की अराधना पूरे मन से करता है जिससे शिव प्रसन्न हो जाए तो उसकी कुंडली से सभी दोष दूर हो जाते है |  

सावन शिवरात्री  2019 पूजा विधि 

शिव शंभु को भोले के नाम से भी जाना जाता है, क्योकि उन्हें प्रसन्न करना ज्यादा कठिन नहीं होता | उनकी पूजा की विधि सबसे आसान होती है | शिवरात्री पर सुबह जल्दी उठकर खुद को स्वच्छ करने की प्रक्रिया संपन्न करें | मंदिर में शिवलिंग का अभिषेक जल,दूध,दही,शहद, घी, चीनी, इत्र,चंदन, केसर, भांग सभी को मिलाकर पवित्र मन से करें | 

शिव को चढ़ने वाला भोग 

  • गेहू से बना भोग चढ़ाकर, भगवान् शिव को प्रसन्न करे |  
  • मूंग का भोग चढ़ाकर ऐश्वर्य प्राप्त करे | 
  • चने की दाल का भोग चढ़ाकर मनचाहा जीवनसाथी पाएं |
  • तिल का भोग चढ़ाकर पापों का नाश करें | 

श्रावण मास का हिन्दू धर्म में ख़ास महत्व है | इसलिए इस महीने में पड़ने वाले चार सोमवार और आने वाली शिवरात्री, शिव भक्तो क लिए महत्व पूर्ण होती है| इन दिनों में सच्चे मन से आरती करें, शिव चालीसा का पाठ करें और भोग में बनाए प्रसाद को ग्रहण करें| सावन में आने वाली शिवरात्री के साथ अन्य आने वाले त्योहार भी आरम्भ हो जाते है |    

Comments are closed.

Send Query

पाइये हर समस्या का सटीक निवारण।